Connect with us

General

सूर्य ग्रहण जून २०२० दिन और समय – Solar eclipse June 2020 – Surya Grahan 2020 on 21st of June

Published

on

Surya Grahan 2020

नमस्कार दोस्तों, आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छी तरह होंगे।

आज मैं बहुत ही जरुरी विषय पर आप लोगो को जानकारी देना चाहती हूँ-Surya Grahan 2020।
जैसा कि आप सभी को पता होगा की 21 जून (Sunday) को सूर्य ग्रहण है,यह एक बहुत ही बड़ी खगोलीय घटना है और उतनी ही ज्यादा अद्भुत भी,वैज्ञानिक दृस्टि से भी और धार्मिक दृस्टि से भी।
आप को जान कर आश्चर्य होगा की हमेशा सूर्य ग्रहण अमावस्या तिथि पर ही होता है।

आखिर सर्य ग्रहण होता क्या है? मैं एक बहुत ही आसान भाषा में आपको समझाने की कोशिश करुँगी कि जब सूर्य, चन्द्रमा और पृथ्वी एक सीधी लाइन में आ जाते है और चन्द्रमा सूर्य को ढक लेता है और सूर्य की रोशनी को पृथ्वी तक नहीं आने देते । मतलब चन्द्रमा ठीक बीच में आ जाता है सूर्य और पृथ्वी के। इसी प्रक्रिया को सूर्य ग्रहण कहा जाता है इस समय दिन में रात जैसा लगता है।

यह Surya Grahan 2020 का पहला सूर्य ग्रहण है और काफी लम्बा भी है। यह 21 जून ,दिन रविवार को पड रहा है, यह एक चूड़ामणि सूर्य ग्रहण है, मतलब यह एक कंगन की तरह दिखाई देगा,क्योकि चन्द्रमा सूर्य को पूरी तरह से नहीं ढक पायेगा।

चन्द्रमा और सूर्य के बीच की दुरी थोड़ी ज्यादा होने की वजह से सूर्य का बाहरी हिस्सा खुला रहेगा जिस कारण से एक गोलाकार रौशनी का कंगन दिखाई देगा. चन्द्रमा के ढकने की वजह से बीच का भाग काला होगा , चूड़ी और कंगन के जैसा आकार दिखाई देने के कारण इसे चूड़ामणि सूर्य ग्रहण कहा जाता है.

सूर्य ग्रहण २०२० दिन और समय

  • यह Surya Grahan 2020 रविवार के दिन पड़ रहा है.
  • इस वजह से भी इसकी तीव्रता और भी ज्यादा है,क्योकि रविवार सूर्य का ही दिन होता है.
  • मतलब सूर्य ग्रहण सूर्य के दिन लग रहा है.
  • शास्त्रों के अनुसार सूर्य ग्रहण को हमे नहीं देखना चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण 2020 अमावस्या तिथि पर पड़ता है और ग्रहण का सूतक काल ग्रहण शुरू होने के ठीक 12 घंटे पहले शुरू हो जाता है।
  • सूर्य ग्रहण 21 जून रविवार को सुबह ठीक 9:20 मिनट पर शुरू होगा और 1:49 PM दोपहर तक रहेगा।
  • सूतक काल ठीक 12 घंटे पहले 20 जून को रात में 9:20 PM को शुरू होगा।
  • सूर्य ग्रहण का समय अलग- अलग जगह पर थोड़ा अलग – अलग हो सकता है, आप अपने शहर के हिसाब से देख लीजियेगा।
  • जब 20 जून रात 9:20 PM से सूतक काल start होगा ठीक तभी से सभी धार्मिक स्थानों के कपाट बंद कर दिए जायेंगे।
  • इसके बाद पूजा-अर्चना नहीं की जाती है, जब तक की सूर्य ग्रहण पूरी तरह से समाप्त नहीं हो जाता।
  • ठीक यही नियम हम लोगो को अपने घरो में भी अपनाने होते है।
  • हम सभी को रात 20 जून 9:20 PM पर अपने घर के मंदिर को पूरी तरह से ढक दे ताकि ग्रहण के समय सूर्य की रोशनी मंदिर में ना पड़े।
  • आप सभी से अनुरोध है की इन सभी नियमो का पालन करें।

अब बात आती है की ऐसा क्या करे कि सूर्य ग्रहण के समय जिससे उसके negative प्रभावों से बचा जा सके। तो चलिए में आपको बताती हूँ कि हमे क्या -क्या करना चाहिए।

1 .सबसे पहले तो सूतक काल शुरू होने से पहले आप लोग सबसे जरुरी काम करे की तुलसी की पत्तिया या दुब घास (जो की गणेश भगवान की पूजा में इस्तेमाल होती है) लाकर पहले से ही रख ले और अपने घर के सभी खाद्य पदार्थो में सूतक start होने से पहले ही डाल दे इससे आपका खाना दूषित नहीं होगा।

2 .घर के मंदिर को पूरी तरह से ढक दे।

3 .सूर्य ग्रहण के बाद आपको जो भी दान आदि करना है वो सब सामान भी पहले से ही लाकर रख लीजिये।

दान आप अपनी श्रद्धा से करे जितना आपकी इच्छा हो और सामर्थ हो करें ।

यह पूरी तरह से आपके ऊपर ही निर्भर है मैं आपको बिलकुल मामूली जो की हर व्यक्ति कर सकता है वह बता रही हूँ आप एक पूरी थाली में जितना भोजन होता है उतना सूखा खाना दान में निकाल दे इससे भी आपको बहुत फायदा होगा मगर जो भी दे वो दिल से करे तो ही लगता है. इस दान को सीदा भी बोला जाता है जो कि पुराने सभी बड़े -बुजुर्ग हमेशा ही हर अमावस्या पर निकालते है और किसी ब्राह्मण को देते है.

अब मैं आपको बताती हूँ कि इसमें होता क्या-क्या है।

  • गेहू का आटा (रोटी या पूरी के लिए )
  • चावल (सादे चावल और खीर के लिए )
  • हरी सब्जी (खाने के लिए एक या दो जो भी आपकी इच्छा हो सब्जी )
  • फल (खाने के साथ कोई भी मौसम का फल )
  • दाल (खाने में एक दाल भी होती है )
  • दूध (खीर के लिए )
  • दही (खाने के साथ रायता या प्लैन दही )
  • शक्कर (खीर के लिए )
  • Dryfruits सूखे मेवे (खीर में डालने के लिए )
  • दक्षिणा (पैसे या रूपए )आपकी श्रद्धा के अनुसार।

यह सब आप पहले से तैयारी कर के रख ले। ताकि ग्रहण काल समाप्त होने पर आप आसानी से निकाल सकते है.

मैंने आप को बहुत ही कम से कम दान में क्या दान देना चाहिए वो बताया है. आप यदि और अधिक देना चाहते हैं तो, आपकी जितनी या जो भी मात्रा में आप दान करना चाहें कर सकते है, यह बहुत लाभकारी होता है।

4 .जब 21 जून को 9:20 पर सुबह सूर्य ग्रहण स्टार्ट होगा उससे पहले आप स्नान कर ले ,स्नान के पानी में थोड़ा सा गंगा जल जरूर डाल लीजियेगा।

5 .अब जब ग्रहण काल शुरू हो जाये तब आप स्नान करने के बाद कही भी किसी शान्ति वाली जगह पर बैठ कर जिस भी भगवान को आप मानते है उनका नाम जप कर सकते है मंत्र जाप कर सकते है.क्योकि यह माना जाता है कि यह समय सिद्धि आदि के लिए सर्वोत्तम होता है।

कहा जाता है की यदि आप सूर्य ग्रहण के समय जो भी थोड़ा भी जप और तप करते है वो करोड़ो गुना फलदायी होता है. मगर वो सही और positive सोच से होना चाहिए।

माना जाता है कि चंद्र ग्रहण में यह लाखो में पुण्य होता है और सूर्य ग्रहण में यह पूण्य करोड़ो गुना होता है. मतलब कि बहुत थोड़े प्रयासों से बहुत अधिक पुण्य प्राप्त होता है तो ऐसे अद्भुत समय को व्यर्थ क्यों जाने दिया जाये। पूरा-पूरा फायदा उठाना चाहिए।

वैसे तो आप अपनी इच्छा से meditation करिये फिर भी मैं आपको कुछ सुझाव देना चाहूंगी ताकि यदि किसी को समझ नहीं आ रहा कि क्या जप करे तो आप इन सुझावों को भी ले सकते है।

  • गायत्री मंत्र कर सकते है यह बहुत ही पावरफुल होता है।
  • नारायण मंत्र कर सकते है।
  • गुरु मंत्र कर सकते है।
  • सूर्य का मंत्र कर सकते है।
  • दुर्गा सप्तसती का भी पाठ कर सकते है।

6 .सूर्य ग्रहण के समय हो सके तो भोजन न करे, केवल छोटे बच्चे, बूढ़े और बीमार व्यक्ति भोजन खा सकते है वो भी हो सके तो हल्का भोजन ही करे। गर्भवती स्त्रिया भोजन कर सकती है। मगर उन्हे अपना विशेष ध्यान रखने की जरुरत है, खास कर चाकू ,कैची और सुई-धागा आदि का बिलकुल भी इस्तेमाल ना करे।

आप भूल कर भी ग्रहण को न देखे ,क्योकि इस समय में काफी नकारात्मक ऊर्जा निकलती है सूर्य की किरणों से, तो आप अपना बहुत ज्यादा ध्यान रखे। वैसे में यह बात सभी को ही कहना चाहूंगी की आप सीधे सीधे सूर्य ग्रहण को न देखे।

बल्कि TV पर पूरा live दिखाया जाता है वह जरूर देखिये क्योकि यह एक बहुत ही अद्भुत और मनमोहक नजारा होता है. आपको मिस नहीं करना चाहिए, मगर सीधे सीधे बाहर नहीं देखना है। इस बात का पूरा ध्यान रखे।

7 . जब ग्रहण समाप्त हो जायेगा, ठीक 1:49 PM पर 21-जून को गंगा जल पानी में दाल कर आपको सबसे पहले स्नान करना है.

फिर आप अपने घर के मंदिर को साफ कर ले और शुद्धि के लिए आप एक कटोरी या लोटे में गंगा जल पानी के साथ मिला ले और उस जल में कपूर का चुरा मिला ले. और दुब घास से पुरे घर में इस जल का छिड़काव जरूर करे। छिड़काव करते समय किसी भी मंत्र का जाप कर सकते है, जो भी आपको पसंद हो ,ऐसा करने से और भी अधिक लाभ होगा।

8 .शुद्धीकरण के बाद आप सबसे पहले अपने घर के मंदिर में दीपक जरूर जलाये ,उसके बाद आप जो भी दान आदि करना चाहते है वो निकाले और किसी भी ब्राह्मण को देकर आये और आशीर्वाद जरूर ले। भगवान से प्रार्थना करे की वो आपकी और आपके परिवार के सभी सदस्यों का ध्यान रखे ,सभी प्रकार का मंगल करे और अपना आशीर्वाद आप सभी पर बनाए रखे।

NOTE:

आप दान में अगर हो सके तो गाय को हरा चारा खिलाये ,पक्षियों को दाना डाले।

आप लोग इस बात का विशेष ध्यान रखे कि किसी भी तरह के वादविवाद में न पड़े ,अपने क्रोध पर काबू रखे क्योकि इस समय यह सब होने की संभावना बहुत अधिक होती है, इसलिए जितना हो सके खुद पर सयंम रखे

आशा करती हूँ कि मेरी इस जानकारी से आपको जरूर फायदा होगा। आप सभी अपना ध्यान रखे और डरे नहीं, बल्कि इस अवसर का फायदा उठाइये और इस अद्भुत और मनमोहक नज़ारे के साक्षी बने.

अगर आप को हमारा ब्लॉग पसंद आया है तो मेरी वेबसाइट को सब्सक्राइब करना ना भूलें।

अपने कमैंट्स के जरिये बताएं की आप को ये ब्लॉग कैसा लगा, मेरे इस ब्लॉग को अपने दोस्तों और फैमिली मे शेयर करें और लाइक का बटन जरूर दबाएं।

आपकी दोस्त और शुभचिंतक,

Neeru

Sharing is Caring
Post Disclaimer

The information contained in this post is for general information purposes only. The information is provided by सूर्य ग्रहण जून २०२० दिन और समय - Solar eclipse June 2020 - Surya Grahan 2020 on 21st of June and while we endeavour to keep the information up to date and correct, we make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website or the information, products, services, or related graphics contained on the post for any purpose.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

General

Copyright © 2019 Hindi Me Sari Jankari.

error: Content is protected !!